बाल विकास का अर्थ || बाल विकास की परिभाषा

● बालक का विकास भ्रूणावस्था से ही प्रारम्भ होता है। विकास की प्रकिया जीवन पर्यन्त चलने वाली प्रकिया है। बालक के जन्म से पूर्व तथा पश्चात् जो भी परिवर्तन दिखाई देते हैं, वे सब बालक विकास के ही अंग हैं। ● मानव विकास की सर्वप्रथम अवस्था शैशवावस्था है। इसकी अवधि जन्म से 5 वर्ष मानी …

Read moreबाल विकास का अर्थ || बाल विकास की परिभाषा

बाल विकास एवं मनोविज्ञान शॉर्ट्स नोट्स

  बाल विकास और मनोविज्ञान शॉर्ट्स नोट्स बाल विकास और मनोविज्ञान विकास एवं विकास को प्रभावित करने वाले कारक बालकों का मानसिक स्वाथ्य एवं व्यव्हार सम्बंधित समस्याएँ बाल विकास में पोषण एवं आहार भोज्य पदार्थों का संग्रहीकरण एवं संरक्षण व्यक्तिगत एवं शालेय स्वच्छता बाल विकास में सामुदायिक शिक्षा और स्वास्थ्य बाल विकास में मानव शरीर …

Read moreबाल विकास एवं मनोविज्ञान शॉर्ट्स नोट्स

शारीरिक विकास एवं गामक विकास की परिभाषा, महत्व, नियम और प्रभावित करने वाले कारक

शारीरिक विकास की परिभाषा :- शारीरिक विकास मतलब बालक की शारीरिक संरचना एवं उसमें होने वाला परिवर्तन है। शारीरिक विकास के अंतर्गत बालक के शरीर का भार उसकी लंबाई उसकी हड्डियों का विकास एवं मजबूती आदि चीजों का विकास सम्मिलित है। गामक विकास क्या है ? गामक विकास एक तरीके से बालक के शारीरिक विकास …

Read moreशारीरिक विकास एवं गामक विकास की परिभाषा, महत्व, नियम और प्रभावित करने वाले कारक

बाल विकास की अवस्थाएं, विशेषताएं, महत्व एवं शिक्षा का स्वरूप

बालक का विकास निश्चित अवस्थाओं में होता है। बाल विकास की प्रत्येक अवस्था की अपनी विशेषताएं और महत्व होता है। प्रत्येक अवस्था के लिए शिक्षा का स्वरूप भी अलग-अलग होता है। यहाँ पर हमने बाल विकास की प्रत्येक अवस्था का महत्व, विशेषताओं और शिक्षा का स्वरूप को बताया है। शैशवावस्था शैशवावस्था की मुख्य विशेषताएं शैशवावस्था …

Read moreबाल विकास की अवस्थाएं, विशेषताएं, महत्व एवं शिक्षा का स्वरूप

बाल विकास के सिद्धांत, उद्देश्य, आवश्यकता एवं महत्व

इस पोस्ट में बाल विकास के सिद्धांतों को बताया गया है। बाल विकास के सिद्धांत के साथ-साथ बाल विकास का उद्देश, बाल विकास का महत्व, आवश्यकता एवं महत्व के बारे में बताया है। इस विषय मे सीटेट और यूपीटेट जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं में प्रश्न पूंछे जाते हैं। यहाँ पर हमने बाल विकास के निम्नलिखित सिद्धान्तों …

Read moreबाल विकास के सिद्धांत, उद्देश्य, आवश्यकता एवं महत्व

बाल विकास की परिभाषा एवं विकास को प्रभावित करने वाले कारक

इस पोस्ट में हम बाल विकास क्या है और विकास को प्रभावित करने वाले कारक के बारे में बताएंगे। साथ ही साथ जानेंगे बाल विकास का अर्थ क्या है? बाल विकास की अवस्थायें कोन-कौन सी हैं? बाल विकास को प्रभावित करने वाले कारक क्या हैं? बाल विकास की विभिन्न अवस्थाओं की परिभाषा क्या है? बाल …

Read moreबाल विकास की परिभाषा एवं विकास को प्रभावित करने वाले कारक

बाल विकास की अवधारणा एवं अधिगम से संबंध

◆ यहाँ पर बाल विकास का अर्थ, विशेषता, सिद्धांत और बाल विकास का अधिगम से संबंध को पॉइंट वाइस बताया गया है।ये नोट्स आपको CTET, UPTET और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए काम आएंगे। बाल विकास की विशेषताएँ :- ● बाल विकास की प्रकिया प्राकृतिक, सरल एवं स्वाभाविक रूप में सम्पन्न होती है। …

Read moreबाल विकास की अवधारणा एवं अधिगम से संबंध

[Quiz] बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र महत्वपूर्ण क्वेश्चन नोट्स

A. बच्चा मार्गदर्शन करने के B. बच्चा नेतृत्व करने के लिए C. बच्चे को शिक्षित करने के D. को समझने के लिए बच्चे को  -: उत्तर देखें :- (B) A. शिक्षा B. मार्गदर्शक छात्र C. शिक्षण प्रक्रिया D. शिक्षण विधियाँ -: उत्तर देखें :- (D) A. नकारात्मक B. मात्रात्मक C. गुणात्मक D. सकारात्मक -: उत्तर देखें :- (B) A. मनोविश्लेषणात्मक विधि B. …

Read more[Quiz] बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र महत्वपूर्ण क्वेश्चन नोट्स